स्वास्थ्य एवं लाभ

मानव स्वास्थ्य एवं रोगों में जीवाणुओं की भूमिका का तुरन्त पता लगाने में जीनोम सीक्वेंसिंग, जीनोम स्केल अनुसंधान एवं उच्च संवेशप्रवाह (थ्रूपुट) तकनीक अत्यन्त कारगर है । इसके द्वारा जीवाणुओं के जीनोम सीक्वेंस अब इतनी जल्दी तैयार किए जा सकते हैं कि कोई भी रोग संक्रमण होने पर रोग जनकों एवं वाहकों का समय रहते पता लगाया जा सकता है ताकि शुरूआत में ही रोग का निदान हो सके और संक्रमण को नियन्त्रित किया जा सके । इन परपोषी (होस्ट) और संक्रमणकारी अथवा आवासी (रेजीडेन्ट) जीवाणुओं के बीच की क्रिया प्रतिक्रिया मानव स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करती इसे समझने के लिए हमारी सोच में भी इन पद्धतियों के कारण बदलाव आ रहा है । यह प्रगति व्यक्ति विशेष की चिकित्सा एवं जनस्वास्थ्य के लिए अधिक प्रभावकारी एवं लक्ष्यनिर्धारित मध्यस्थता के कारण इस क्षेत्र में क्रान्तिकारी सिद्ध हो रही है ।

          इस श्रृंखला में संक्रामक रोगों का अध्ययन करने के लिए जीनोम स्केल और जीनोम संबंधी अन्य पद्धतियों, स्वास्थ्य एवं रोगो में जीवाणुओं की भूमिका  और इस सूचना को चिकित्सा के क्षेत्र में कैसे लागू किया जा सकता है आदि विषयों पर प्रकाश डाला गया है ।



Back
Government of India
आगंतुक संख्या : 1812551